RBI ने की रेपो रेट में बढ़ोतरी : अब आपके ईएमआई का क्या होता है ?

0
70
What happens to your EMIs now
What happens to your EMIs now

Mumbai/Atulyaloktantra News: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बुधवार को वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी मौद्रिक समीक्षा में प्रमुख ब्याज दर में 25 आधार अंकों की वृद्धि कर दी है। इसके बाद रेपो दर 6.5 फीसदी हो गई है।

इसका सबसे बड़ा प्रभाव लोन महंगा हो जाएगा।

आरबीआई ने एक बयान में कहा है कि बुधवार को हुई बैठक में वर्तमान और उभरती आर्थिक स्थिति के आकलन के आधार पर, मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने तरलता समायोजन सुविधा (एलएएफ) के तहत नीतिगत रेपो दर में 25 आधार अंकों की वृद्धि की है।

इससे रेपो दर 6.5 फीसदी हो गई है। बयान में आगे कहा गया है कि इसके प्रभाव से एलएएफ के अंतर्गत रिवर्स रेपो दर 6.25 फीसदी हो गई है और मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी (एमएसएफ) दर और बैंक दर 6.75 फीसदी हो गई है।

बैठक में जताया गया है कि वित्त वर्ष 2018-19 में देश की जीडीपी वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत रहेगी। जुलाई-सितंबर तिमाही में महंगाई दर 4.6 प्रतिशत रहेगी और जुलाई-दिसंबर छमाही में 4.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

अब आपके ईएमआई का क्या होता है

What happens to your EMIs now
What happens to your EMIs now

जो घर, ऑटो, व्यक्तिगत और अन्य ऋणों पर ईएमआई-ईएमआई (समान मासिक किस्त) बढ़ने के लिए महत्वपूर्ण सवाल उठाता है, अब केंद्रीय बैंक ने प्रमुख नीति दरों में वृद्धि की है।

हालांकि बैंकों ने अभी तक नीति पर प्रतिक्रिया नहीं दी है, आरबीआई द्वारा दो बैक-टू-बैक वृद्धि कुछ कदम उठा सकती है कि आखिरी वृद्धि के बाद, बैंकों ने बोझ को ग्राहकों को नहीं पारित किया था।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जून में पिछली आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा से कुछ दिन पहले, प्रमुख बैंकों ने बेंचमार्क उधार दरों या एमसीएलआर (ऋण आधारित आधार पर ऋण की मामूली लागत) बढ़ाकर 0.1 प्रतिशत तक बढ़ा दिया, जिससे उपभोक्ताओं के लिए ऋण महंगा हो गया ।

Previous Most Popular News Storiesआडवाणी ममता की मुलाकात के मायने !
Next Most Popular News Storiesपूर्वांचल प्रकोष्ठ के अध्यक्ष ओ पी पांडे के दुख में शामिल होंगें डॉ तंवर …
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here