उत्तर प्रदेश में फर्जी डिग्री से पिता-पुत्र कर रहे थे शिक्षक की नौकरी

0
5

Uttar Pardesh/AtulyaLoktantra : उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में लखनऊ एसटीएफ ने फर्जी तरीके से शिक्षक की नौकरी दिलाने वाली गैंग का पर्दाफाश किया है. पकड़े गए आरोपी पिता-पुत्र हैं, जो फर्जी दस्तावेज से हैदरगढ़ ब्लॉक में कई सालों से बतौर शिक्षक नौकरी कर रहे थे. इन्होंने भर्ती प्रक्रिया में फर्जी डिग्री व नाम के आधार पर नौकरी हासिल की थी. वहीं, ये लोग फर्जी तरीके से नौकरी दिलाने का रैकेट भी चलाते हैं.
बाराबंकी में फर्जी डिग्री से शिक्षक बने पिता-पुत्र गोरखपुर के रहने वाले हैं, जिन्हें देर रात एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया. वहीं, एक महिला सहित दो अन्य शिक्षक फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है. हालांकि, एसटीएफ की ओर से अभी पूरे प्रकरण का खुलासा नहीं किया गया है.
फर्जी डिग्री से नौकरी दिलाने का रैकेट
गिरफ्तार किए गए पिता-पुत्र गोरखपुर स्थित नगर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम गोपालापुर के मूल निवासी हैं. पिता बृजेश कुमार ने साल 1997 में बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक के पद पर बलरामपुर जिले से जयकरन दुबे नाम के दस्तावेजों से नौकरी शुरू की. वर्ष 2016 में महराजगंज जिले से स्थानांतरित होकर बाराबंकी आया. मौजूदा समय हैदरगढ़ ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय गेरावां में सहायक अध्यापक पद पर तैनाती है.
उसने अपने पुत्र आदित्य त्रिपाठी को साल 2009 में रविशंकर त्रिपाठी के नाम से फर्जी डिग्रियों के सहारे सहायक अध्यापक पद पर प्राथमिक स्कूल हैदरगढ़ में नौकरी दिलाई. ये दोनों फिलहाल बाराबंकी में एक किराए के मकान में रहते हैं और फर्जी तरीके से नौकरी दिलाने का रैकेट चलाते हैं.
शिकायत पर एसटीएफ कर रही थी जांच
करीब दो दर्जन लोगों से नौकरी के नाम पर रुपये वसूलने को लेकर की गई शिकायत पर एसटीएफ जांच कर रही थी. जांच में पाया गया कि बृजेश ने अपने पुत्र के अलावा सुरेंद्र नाथ, सहायक अध्यापक गुलामाबाद व नवनीता यादव, सहायक अध्यापक मसौली को भी फर्जी तरीके से नौकरी दिलवाई थी.
सुरेंद्र नाथ व नवनीता की तलाश में एसटीएफ ने उनके घरों पर छापा मारा लेकिन वह नहीं मिले. वहीं, पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही

Previous Most Popular News Storiesफरीदाबाद में बदमाशों ने एक साथ चार लोगों को चाकू से गोदकर मौत के घाट उतारा
Next Most Popular News Storiesमानव रचना में हरित और सतत रसायन विज्ञान सम्मेलन 2019 हुआ आयोजन
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here