पवार की मुट्ठी में सरकार, सोनिया से मुलाकात के बाद तस्वीर होगी साफ

0
16

Maharashtra/Atulya Loktantra : महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद को लेकर बीजेपी-शिवसेना के बीच मचे घमासान ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को किंगमेकर बना दिया है. शिवसेना और एनसीपी के बीच नए सिरे से पक रही सियासी खिचड़ी से बीजेपी खेमा चिंतित नजर आ रहा है. हालांकि बीजेपी लगातार सरकार बनाने का दावा कर रही है. ऐसे में महाराष्ट्र की सत्ता किसके हाथ में होगी, इसकी तस्वीर शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के मुलाकात के बाद साफ हो जाएगी.

बता दें कि महाराष्ट्र की सियासत में शिवसेना और बीजेपी के बीच जारी शह और मात के खेल में शरद पवार की भूमिका बेहद अहम हो गई है. यही वजह है कि शिवसेना भी एनसीपी से हाथ मिलाने के लिए बेताब है. शिवसेना नेताओं ने एनसीपी के प्रमुख शरद पवार से मुलाकात भी की है. माना जा रहा है शिवसेना ने शरद पवार के सामने एनसीपी के समर्थन से सरकार बनाने का प्रस्ताव रखा है. हालांकि इसके बावजूद एनसीपी ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं.

महाराष्ट्र के सियासी संग्राम के बीच शरद पवार सोमवार को सोनिया गांधी से मुलाकात होगी. माना जा रहा है कि इस बैठक में पवार-सोनिया के बीच महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम पर विचार विमर्श हो सकता है. इसके बाद ही शरद पवार अपने पत्ते खोलेंगे.

दरअसल विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने 56 और बीजेपी ने 105 सीटों पर जीत दर्ज की. जबकि एनसीपी को 54, कांग्रेस को 44 और अन्य को 29 सीटें मिली हैं. चुनावी नतीजे के बाद से ही बीजेपी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर गतिरोध बना हुआ है. महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है. लेकिन सीएम पद पर फंसे पेच के चलते मामला अभी तक अटका हुआ है.

ऐसे में एनसीपी के ऐसे स्टैंड पर सभी की निगाहें हैं. एनसीपी कभी शिवसेना का साथ देने का संकेत देती है तो कभी विपक्ष में बैठने का. लेकिन राजनीति के माहिर खिलाड़ी शरद पवार किस मौके पर कौन सा दांव खेलेंगे इस पर सभी की निगाहें हैं.

शिवसेना सरकार कांग्रेस-एनसीपी की बदौलत ही बना सकती है. इस तरह से अगर एनसीपी शिवसेना के साथ खड़ी होती है तो उसे कांग्रेस के समर्थन की भी जरूरत होगी. शिवसेना और एनसीपी के मिलने के बाद 110 का आंकड़ा पहुंचता है, लेकिन बहुमत के लिए 145 विधायकों की संख्या होनी चाहिए. ऐसे स्थिति में कांग्रेस की रणनीति पर लोगों की नजर होगी.

एनसीपी विपक्ष में बैठने पर कायम रहती है तो फिर बीजेपी के सरकार बनने का रास्ता साफ हो जाएगा. यही नहीं अगर एनसीपी 2014 की रणनीति भी अपनाती है तो भी बीजेपी की सरकार आसानी से बन सकती है. देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री पद की शपथ लेकर सरकार बनाएं और विश्वासमत के समय 54 सीटों वाली एनसीपी सदन वॉकआउट कर जाए तो बीजेपी आसानी से अपना बहुमत सिद्ध कर ले जाएगी. एनसीपी ने 2014 में विश्वासमत के समय यही किया था.

Previous Most Popular News Storiesदिल्ली में प्रदूषण की स्थिति को लेकर आपात बैठक बुलाए जाने के लिए केंद्र से किया गया आग्रह
Next Most Popular News Storiesप्लेन रुकवाने के लिए नाराज पत्नी को बता दिया मानव बम, NIA करेगी जांच
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here