2050 तक डूब जाएंगे मुंबई-कोलकाता, सूरत जैसे बड़े शहर

    0
    43
    2050 तक डूब जाएंगे मुंबई
    2050 तक डूब जाएंगे मुंबई

    New Delhi/AtulyLoktantra : 2050 तक डूब जाएंगे: देश की 3.60 करोड़ आबादी भयावह प्राकृतिक आपदा का मुहाने पर खड़ी है. ऐसी आशंका जताई जा रही है कि अब से करीब 30 साल बाद मुंबई, कोलकाता समेत देश के कई तटीय इलाके डूब जाएंगे. या फिर इन्हें हर साल भयानक बाढ़ का सामना करना पड़ेगा. इन इलाकों को मॉनसूनी मौसम में भारी बाढ़ का सामना करना पड़ सकता है. अमेरिकी संस्थान क्लाइमेट सेंट्रल की एक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. इस रिपोर्ट के अनुसार इस सदी के मध्य तक ग्लोबल वार्मिंग के कारण समुद्र का जल-स्तर तेजी से बढ़ा तो भारत भी उससे अछूता नहीं रहेगा.

    2050 तक डूब जाएंगे मुंबई-कोलकाता, सूरत जैसे बड़े शहर :

    2050 तक डूब जाएंगे मुंबई
    2050 तक डूब जाएंगे मुंबई

    इस रिपोर्ट के अनुसार यह माना जा रहा था कि इससे वे हिस्से पानी में डूब जाएंगे, जो तटों के किनारे बसे हैं. या जिनका भू-स्तर काफी नीचे है. इस रिपोर्ट के मुताबिक समुद्री जलस्तर में इजाफा होने से 2050 तक दुनिया भर के 10 देशों की आबादी पर बहुत बुरा असर पड़ेगा.

    2050 तक डूब जाएंगे Mumbai Kolkata तेज शहरीकरण एवं आर्थिक वृद्धि के चलते तटीय बाढ से मुंबई और कोलकाता के लोगों को सबसे ज्यादा खतरा है. नासा के शटल राडार टोपोग्राफी मिशन के जरिए हुए अध्ययन से ये नतीजे निकाले गए हैं कि साल 2050 तक समुद्र का जल स्तर इतना बढ़ जाएगा कि भारत के मुंबई, नवी मुंबई और कोलकाता जैसे महानगर भी सदा के लिए जलमग्न हो सकते हैं. इससे करीब तीन करोड़ लोगों को विस्थापन की समस्या से जूझना पड़ सकता है.

    2050 तक डूब जाएंगे Mumbai kolkata राज्यों को है सबसे ज्यादा खतरा

    1. सूरत

    50 लाख की आबादी वाला सूरत को हर साल बाढ़ की भयावह त्रासदी का सामना करना पड़ सकता है. यहां समुद्र का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ता हुआ दर्ज किया जा रहा है.

    2. कोलकाता

    1.50 करोड़ की आबादी वाला यह शहर और प. बंगाल की राजधानी को सबसे ज्यादा खतरा बंगाल की खाड़ी और हुगली नदी की शाखाओं के जलस्तर बढ़ने से है. कोलकाता हुगली नदी के बाढ़ से ज्यादा प्रभावित हो सकता है.

    3. मुंबई

    1.80 करोड़ की आबादी वाली देश की आर्थिक राजधानी वैसे ही हर साल बाढ़ से परेशान होती है. लेकिन 2050 तक इसकी हालत बदतर हो जाएगी. तटीय बाढ़ की वजह से मुंबई के कई इलाके डूब जाएंगे.

    4. ओडिशा.

    ओडिशा के पारादीप और घंटेश्वर जैसे तटीय इलाकों में रहने वाले करीब 5 लाख लोगों की आबादी 2050 तक तटीय बाढ़ की जद में आ जाएगी. यहां भी खतरा बढ़ा जाएगा.

    5. केरल

    पिछली साल आई बाढ़ ने केरल में 1.4 करोड़ लोगों को प्रभावित किया था. 2050 तक अलापुझा और कोट्टायम जैसे जिलों को तटीय बाढ़ जैसी आपदाओं का सामना करना पड़ेगा.

    6. तमिलनाडु

    इस राज्य के तटीय इलाके भी बाढ़ और बढ़ते समुद्री जलस्तर से अछूते नहीं रहेंगे. इसमें चेन्नई, थिरवल्लूर, कांचीपुरम प्रमुख हैं. अकेले चेन्नई में 70 लाख से ज्यादा लोग रहते हैं. जिन्होंने हाल ही में बाढ़ और सूखे दोनों की समस्या का सामना किया है.

    इन देशों को भी है बड़ा खतरा

    2050 तक समुद्र की सतह में इजाफा होने से दुनिया भर में जिन 10 देशों की आबादी सबसे ज्यादा प्रभावित होगी उनमें से 7 देश एशिया प्रशांत क्षेत्र के हैं. सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों में भारत सबसे ऊपर है. भारत के लगभग 4 करोड़ लोग जोखिम में होंगे.

    बांग्लादेश के 2.5 करोड़, चीन के 2 करोड़ और फिलीपींस के तकरीबन 1.5 करोड़ लोगों को खतरा होगा. भारत में मुंबई और कोलकाता को, चीन में गुआंगझो और शंघाई को, बांग्लादेश में ढाका को, म्यांमार में यंगून को, थाईलैंड में बैंकाक को और वियतनाम में हो ची मिन्ह सिटी तथा हाइ फोंग को चिह्नित किया गया है. नया अध्ययन बता रहा है कि समुद्र का जल-स्तर बढ़ने से दुनिया की लगभग 30 करोड़ आबादी प्रभावित होगी. अकेले बांग्लादेश में 9 करोड़ से ज्यादा लोग बेघर हो जाएंगे

    Previous Most Popular News Storiesचुनाव के दौरान वॉट्सऐप से हुई भारतीय पत्रकारों की जासूसी, अमेरिका में खुली पोल
    Next Most Popular News Storiesजम्मू-कश्मीर आज से नया केंद्रशासित प्रदेश बना
    इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here