देश के सर्वाधिक 10 प्रदूषित शहरों में दिल्ली नहीं, UP के 8 और हरियाणा के 2 शहर

0
24

New Delhi/Atulya Loktantra : राजधानी दिल्ली के प्रदूषण ने पूरे देश में घबराहट सी पैदा कर दी है. हालांकि सोमवार को दिल्लीवासियों ने कुछ हद तक राहत की सांस ली. सोमवार को राजधानी के कई इलाकों में वायु की गुणवत्ता जिसे AQI से नापते हैं, ‘गंभीर’ (AQI 400+) से गिरकर ‘खराब’ (AQI 151-200) तक आ पहुंची. राजधानी दिल्ली के संकट ने सबको प्रदूषण से जुड़े संकट पर सोचने को मजबूर कर दिया है. हालांकि दिल्ली ही नहीं, उत्तर प्रदेश के भी कुछ शहरों की हालत बेहद खराब है. हवा की खराब गुणवत्ता के मामले में हरियाणा के शहर भी पीछे नहीं हैं.

दिल्ली के अलावा इन शहरों की हवा खराब
डेटा इंटेलिजेंस यूनिट (DIU) ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों का विश्लेषण किया और पाया कि राजधानी दिल्ली भारत के टॉप टेन प्रदूषित शहरों की सूची से बाहर है. CPCB के आंकड़े बताते हैं की पिछले 24 घंटे में (3 नवंबर शाम 4 से 4 नवंबर शाम 4 बजे तक) हरियाणा के जींद शहर के लोगों ने औसतन सबसे खराब सांसें ली. इस दौरान जींद का औसत AQI 448 रहा.

यूपी के शहरों में वायु गुणवत्ता का बुरा हाल
कुल मिलाकर सोमवार को ऐसे 15 शहर थे जिनका औसत AQI 400 से ज्यादा था. इन पंद्रह शहरों में से 9 तो केवल उत्तर प्रदेश के ही शहर थे और 5 हरियाणा से. इस अध्ययन में दिल्ली को एक शहर के हिसाब से आंका गया था.

सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में जींद के बाद नंबर था उत्तर प्रदेश के बागपत का, जहां एयर क्वालिटी इंडेक्स 440 रिकॉर्ड किया गया. गाजियाबाद में आंकड़ा 440, हापुड़ में 436, लखनऊ में 435, मुरादाबाद में 434, नोएडा में 430, ग्रेटर नोएडा में 428, कानपुर में 427 दर्ज किया गया. हरियाणा के सिरसा में AQI 426 था.

प्रदूषण के मामले में दिल्ली के आस-पास के शहर भी कई बार दिल्ली को पीछे छोड़ चुके हैं. DIU ने पहले भी रिपोर्ट किया था कि दिवाली से ठीक पहले हफ्ते में उत्तर प्रदेश और हरियाणा के लोग दिल्ली से ज्यादा जहरीली सांसें ले रहे थे.
केरल के शहर ने किया कमाल

AQI आकलन के 97 शहरों में से केवल चार ही ऐसे शहर थे जहां वायु की गुणवत्ता अच्छी थी यानी कि उन शहरों का AQI 50 या उससे कम था. केरल के कोच्चि शहर के उपनगर एलुरु की हवा सबसे अच्छी थी. एलुरु का AQI 25 था जो देश के शहरों में सबसे कम है. एलुरु के अलावा मुंबई के ठाणे में AQI 45, केरल के तिरुवनंतपुरम में 49 और राजस्थान के कोटा में 50 रिकॉर्ड किया गया था.

Previous Most Popular News Storiesगौ सेवा का अनुपम फल प्राप्त होता है : स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य
Next Most Popular News Storiesजानिए क्यों पुलिस को वर्दी पहनने में लग रहा है डर?
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here