महबूबा का हमला, बोली- कश्मीर की स्थिति पर सभी बयान सफेद झूठ

0
11

New Delhi/Atulya Loktantra : जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्मंत्री और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है कि कश्मीर पर अधिकारियों की ओर से जारी हर बयान सफेद झूठ है. महबूबा मुफ्ती का ट्विटर अकाउंट जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवाएं बंद होने के बाद से ही उनकी बेटी इल्तिजा मुफ्ती चला रही हैं.

इस ट्वीट में कहा गया है कि कुछ नेताओं को हिरासत से छूट ऐसे मिली है, जिन्हें कभी हिरासत में ही नहीं लिया गया था. दरअसल कुछ नेताओं की नजरबंदी हाल ही में खत्म की गई थी , जिन्हें माना जाता है कि वे सरकार समर्थक हैं.

इन नेताओं को मिली छूट
प्रशासन की तरफ से नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC), कांग्रेस और जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी (J&K NPP) जैसे राजनीतिक दलों के नेताओं को जम्मू में मुक्त कर दिया गया था. इनमें NC के देवेंद्र राणा व एसएस सलाथिया, कांग्रेस के रमन भल्ला और पैंथर्स पार्टी के नेता हर्षदेव सिंह की नजरबंदी समाप्त कर दी गई.

अगस्त के पहले हफ्ते में जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया गया था. जिसके बाद कई नेताओं, अलगाववादियों, कार्यकर्ताओं और वकीलों को हिरासत में लिया गया था.

इंटरनेट पर पाबंदी जारी
जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से दावा किया जा रहा है कि घाटी में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं. कुछ जगहों पर मोबाइल सेवाएं चालू की गई हैं, वहीं इंटरनेट पर पाबंदी अभी जारी है.

हिरासत में हैं ये नेता
प्रशासन की तरफ से भले ही जम्मू के नेताओं को छूट दी गई है. लेकिन घाटी के नेता अभी भी नज़रबंद हैं. इनमें जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, फारुक अब्दुल्ला, सज्जाद लोन जैसे बड़े नाम शामिल हैं. इन सभी नेताओं को 5 अगस्त के बाद से ही नज़रबंद किया गया है , ताकि ये घाटी में कोई राजनीतिक कार्यक्रम ना कर पाएं.

Previous Most Popular News Storiesकानून-व्यवस्था फेल, PM मोदी की भतीजी का पर्स छीनकर भागे बदमाश
Next Most Popular News Storiesभाजपा में 82 साल की उम्र में किस नेता ने शुरू किया राजनीतिक करियर
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here