न लोहा न सीमेंट, जानिए नागर शैली की खासियत जिससे होगा राम मंदिर निर्माण

0
22

New Delhi/Atulya Loktantra : सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो गया है. देश की सबसे बड़ी अदालत ने अयोध्या की विवादित जमीन पर रामलला विराजमान का हक माना है. जबकि मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया गया है. इसी बीच राम मंदिर के डिजाइन को लेकर यही चर्चा है कि मंदिर किस तकनीक से बनेगा.

दरअसल, 1989 में ही राममंदिर के लिए डिजाइन तैयार किया गया था. राममंदिर का डिजाइन तैयार करने वाले शिल्पकार चंद्रकांत सोमपुरा ने बताया कि अयोध्या में राम मंदिर कैसे बनेगा. यह मंदिर प्रसिद्द नागर शैली के आधार पर बनेगा. उन्होंने यह भी बताया कि इस तकनीक से मंदिर बनने में लगभग कितना समय लगेगा.

दरअसल, 1989 में ही राममंदिर के लिए डिजाइन तैयार किया गया था. राममंदिर का डिजाइन तैयार करने वाले शिल्पकार चंद्रकांत सोमपुरा ने बताया कि अयोध्या में राम मंदिर कैसे बनेगा. यह मंदिर प्रसिद्द नागर शैली के आधार पर बनेगा. उन्होंने यह भी बताया कि इस तकनीक से मंदिर बनने में लगभग कितना समय लगेगा.

नागर शैली की दो बड़ी विशेषताएं हैं इसकी विशिष्ट योजना और विमान. इसकी मुख्य भूमि आयताकार होती है जिसमें बीच के दोनों ओर क्रमिक विमान होते हैं जिनके चलते इसका पूर्ण आकार तिकोना हो जाता है.

मंदिर के सबसे ऊपर शिखर होता है, जिसे रेखा शिखर भी कहते हैं. मंदिर में दो भवन भी होते हैं, एक गर्भगृह और दूसरा मंडप. गर्भगृह ऊंचा होता है और मंडप छोटा होता है. गर्भगृह के ऊपर एक घंटाकार संरचना होती है जिससे मंदिर की ऊंचाई बढ़ जाती है.

इन मंदिरों में होते हैं चार कक्ष
नागर शैली के मंदिरों में चार कक्ष होते हैं, गर्भगृह, जगमोहन, नाट्यमंदिर और भोगमंदिर. प्रारम्भिक नागर शैली के मंदिरों में स्तम्भ नहीं होते थे. लेकिन धीरे-धीरे इसमें बदलाव भी हुआ है. बनावट में भी बदलाव देखने को मिले. स्थानीय विविधताओं का भी मिश्रण देखने को मिला.

खास बात यह है कि इन मंदिरों में लोहे और सीमेंट का इस्तेमाल नहीं होता है. भुवनेश्वर में स्थित लिंगराज मंदिर नागर शैली का एक उत्कृष्ट उदाहरण है. इसके अलावा खजुराहो के मंदिर भी इसी शैली में बनाए गए हैं. विश्व प्रसिद्द उड़ीसा का कोणार्क मंदिर भी नगर शैली में ही बनाया गया है.

दो मंजिला रहेगा मंदिर
अयोध्या में प्रस्तावित मंदिर का डिजाइन बनाने वाले चंद्रकांत सोमपुरा ने बताया कि इस मंदिर की खास बात भी ये रहेगी कि ये मंदिर दो मंजिला रहेगा. इसमें पहला रामलला का मंदिर है और पहली मंजिल पर राम दरबार रहेगा, जहां राम, लक्ष्मण और सीता के साथ हनुमान जी की मूर्ति लगेगी.

इसके अलावा राम मंदिर के साथ-साथ चार और मंदिर भी रहेंगे. इनमें भरत, सीता, हनुमान और गणेशजी का मंदिर भी रामलला के पास बनाए जाएंगे. मुख्य मंदिर के पिलर पर अलग-अलग भगवान की झांकियां तैयार की जाएंगी.

डिजाइन के अनुसार राम मंदिर बनाने में तकरीबन 2 लाख 63 हजार घनफीट पत्थर लगेगा. जिसमें में से अब तक 1 लाख 60 घनफीट पत्थर इतने साल में बन कर तैयार हो चुके हैं.

Previous Most Popular News Storiesशिवसेना के सिर महाराष्ट्र का ताज? कांग्रेस-NCP-शिवसेना में बैठकों का दौर
Next Most Popular News StoriesJNU में दीक्षांत समारोह आज, फीस बढ़ोतरी के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here