पंकजा मुंडे BJP छोड़ शिवसेना में होंगी शामिल? ट्विटर प्रोफाइल बदलने से अटकलें तेज

0
9

Mumbai/Atulya Loktantra : भाजपा नेता और महाराष्ट्र सरकार में पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं, पहले उन्होंने अपने समर्थकों को 12 दिसंबर के दिन गोपीनाथगढ़ आने का निमंत्रण दिया है और अब पंकजा ने ट्विटर पर अपने प्रोफाइल से भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी जानकारी हटा दी है, पंकजा के इस कदम से ऐसा लग रहा है कि वह अपने राजनितिक भविष्य को लेकर कोई बड़ा कदम उठा सकती हैं और अटकलें इस बात की भी लगाई जा रही हैं कि वह भाजपा को छोड़ शिवसेना में शामिल हो सकती हैं।

पंकजा मुंडे के ट्विटर प्रोफाईल का यूजरनेम पहले पंकजा मुंडे बीजेपी था, लेकिन अब पंकजा ने अपने ट्विटर का यूजर नेम सिर्फ पंकजा मुंडे कर लिया है। पंकजा मुंडे को लेकर अटकलें हैं कि वह भारतीय जनता पार्टो को छोड़ शिवसेना में शामिल हो सकती हैं। हालांकि शिवसेना सूत्रों के मुताबिक पंकजा मुंडे शिवसेना में शामिल होना चाहती हैं या नहीं इसका फैसला उन्हें ही करना है। शिवसेना सूत्रों के मुताबिक मातोश्री के दरवाजे सभी के लिए खुले हैं और शिवसेना अध्यक्ष तथा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पंकजा को अपनी बहन मानते हैं।

शिवसेना सूत्रों के मुताबिक की साल पहले पंकजा मुंडे के दिवंगत पिता और महाराष्ट्र के पूर्व उप मुख्यमंत्री गोपीनाथ मुंडे भी भाजपा छोड़ शिवसेना में शामिल होना चाहते थे लेकिन उस समय बाला साबेह ठाकरे ने उन्हें ऐसा करने से रोका था।

पंकजा मुंडे ने रविवार को भी एक फेसबुक पोस्ट लिखा है उनके फेसबुक पोस्ट से भी ऐसा लग रहा है कि वह अपने राजनितिक भविष्य को लेकर कई बड़ा कदम उठाने के बारे में सोच रही हैं। पंकजा ने अपने समर्थकों को अपने दिवंगत पिता एवं पूर्व भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे की जयंती के मौके पर 12 दिसंबर को गोपीनाथगढ़ आने का न्योता दिया है। गोपीनाथगढ़ बीड जिले में गोपीनाथ मुंडे का स्मारक है। पंकजा ने मराठी में लिखी फेसबुक पोस्ट में कहा, ‘‘राज्य में बदले राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए यह सोचने और निर्णय लेने की आवश्यकता है कि आगे क्या किया जाए। मुझे स्वयं से बात करने के लिए आठ से 10 दिन की आवश्यकता है। मौजूदा राजनीतिक बदलावों की पृष्ठभूमि में भावी यात्रा पर फैसला किए जाने की आवश्यकता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब क्या करना है? कौन सा मार्ग चुनना है? हम लोगों को क्या दे सकते हैं? हमारी ताकत क्या है? लोगों की अपेक्षाएं क्या हैं? मैं इन सभी पहलुओं पर विचार करूंगी और आपके सामने 12 दिसंबर को आऊंगी।’’ पंकजा को 21 अक्टूबर को हुए विधानसभा चुनाव में अपने चचेरे भाई और राकांपा नेता धनन्जय मुंडे के हाथों बीड जिले की परली सीट से हार का सामना करना पड़ा था।

Previous Most Popular News Storiesमहिला मरीजों का न्यूड वीडियो बना पोर्न वेबसाइट पर बेचता था डॉक्टर!
Next Most Popular News Storiesफरीदाबाद की सुमन भाटी ने की अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here