सिब्बल बोले- कौन करेगा मौलिक स्वतंत्रता की रक्षा?

0
16

New Delhi/Atulya Loktantra : पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को डलब झटका लगने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है. उन्होंने ट्वीट किया, हमारी मौलिक स्वतंत्रता की रक्षा कौन करेगा? सरकार? सीबीआई? ईडी? या आयकर अधिकारी? अथवा अदालतें? अगर अदालतें मान लेंगी कि ईडी और सीबीआई सही बोल रही हैं तो एक दिन भगवती से वेंकटाचलिया युग में निर्मित स्वतंत्रता के स्तंभ ढह जाएंगे. वह दिन दूर नहीं है.

असल में, पी. चिदंबरम को एक अदालत ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गुरुवार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पिछले महीने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की थी.

सीबीआई के विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहर ने चिदंबरम को गुरुवार को अदालत में हुई उनकी पेशी के बाद 14 दिनों की हिरासत में भेज दिया. चिदंबरम ने अदलात से कहा कि वह जेड-श्रेणी की सुरक्षा के साथ उस सेल में रहना चाहते हैं, जहां एक बिस्तर, दवाओं की सुविधा, बाथरूम और पश्चिमी शैली वाला शौचालय हो. अदालत ने उनके आवेदन को स्वीकार कर लिया और उन्हें ऐसे सेल में रहने की अनुमति दे दी.

आईएनएक्स मीडिया से ही संबंधित एक मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष आत्मसमर्पण करने की अनुमति मांगने के लिए चिदंबरम ने अदालत में एक और आवेदन दिया है. अदालत ने संबंधित एजेंसी को नोटिस जारी किया और इस पर अब सुनवाई 12 सितंबर को होगी.

सुनवाई के दौरान चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा, “मेरे खिलाफ कुछ नहीं मिला है. अगर मैं शक्तिशाली व्यक्ति हूं और गवाहों को प्रभावित कर सकता हूं, तो उन्हें मेरे खिलाफ सबूतों से छेड़छाड़ करने के या गवाहों को प्रभावित करने के साक्ष्य लाने चाहिए.” उन्होंने कहा, “संभावित और आशंका के चलते मुझे न्यायिक हिरासत में जाने को नहीं कहा जा सकता है.”

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, “क्या आप जमानत को लेकर बहस कर रहे हैं?” इस पर सिब्बल ने कहा, “मैं इस आधार पर बहस कर रहा हूं कि आप किन मुद्दों पर न्यायिक हिरासत की मांग कर रहे हैं. यह मूल रूप से अपमानजनक है. इसका प्रमाण दिया जाना चाहिए.” मेहता ने कहा, “जहां तक ईडी के मामले का सवाल है, सुप्रीम कोर्ट ने छेड़छाड़ के मौके को स्वीकार किया है. सबूतों के साथ छेड़छाड़ की प्रबल संभावनाएं हैं.”

Previous Most Popular News Storiesपोहा-चाय और एक तकिया : तिहाड़ में कुछ ऐसे बीती चिदंबरम की रात
Next Most Popular News Storiesआज रात चांद पर उतरेगा चंद्रयान-2, इसरो सेंटर में मौजूद रहेंगे PM मोदी
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here