छात्रों ने सिंगल यूज प्लास्टिक इस्तेमाल न करने की दिलाई शपथ

0
6

Faridabad/Atulya Loktantra : चार्मवुड स्थित मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने दिल्ली-एनसीआर की सात सोसाइटी में जाकर लोगों को सिंगल यूज प्लास्टिक इस्तेमाल न करने के लिए जागरूक किया। छात्रों ने केनवुड, रॉयल रिट्रीट, स्टर्लिंग, ब्रेंटवुड, कालकाजी, अलकनंदा औव वुडबेरी सोसाइटी में जाकर 1371 लोगों को सिंगल यूज प्लास्टिक इस्तेमाल न करने की शपथ दिलाई। इस मौके पर स्कूली छात्रों के साथ-साथ एमआरआईआईआरएस के छात्रों ने भी कैंपेन में हिस्सा लिया।

सिंगल प्लास्टिक इस्तेमाल होने वाली चीजों के बारे में छात्रों ने आम लोगों को बताया और जरूरतमंद लोगों को जूट और पेपर बैग्स डोनेट किए। कैंपेन का हिस्सा रहे आठवीं, नौवीं और ग्यारवहीं के छात्र मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल चार्मवुड के इंटरैक्ट क्लब के मेंबर्स थे।

मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल की डायरेक्टर प्रिंसिपल संयोगिता शर्मा ने कहा युवा देश का भविष्य हैं युवा जितना जागरूक होंगे लोगों तक वह बात आसानी से पहुंचेगी। उन्होंने उम्मीद जताई आने सिंगल यूज प्लास्टिक पूरी तरह से बैन होने से देश का भविष्य भी सुरक्षित रहेगा।

Previous Most Popular News Storiesफरीदाबाद के Mad Bros को मिला यूट्यूब से अवार्ड
Next Most Popular News Storiesसराय स्कूल में मनाया अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here