लख्मीचंद के साहित्य को हमेशा अमर रखा जाएगा

0
87
Lakhmichand's literature will always be immortalized
Lakhmichand's literature will always be immortalized

AtulyaloktantraNews Chandigarh: प्रदेश के कैबिनेट मंत्री रामबिलास शर्मा ने कहा है कि पंडित लखमीचंद की रचनाएं हमेशा प्रासंगिक रहेंगी। उनके साहित्य को अमर रखा जाएगा। पंडित लखमीचंद को भारत रत्न दिलाने के लिए हरियाणा सरकार से प्रस्ताव पारित करवा कर केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा।

शिक्षा मंत्री आज भिवानी जिले के गांव उमरावत में म्हारी संस्कृति म्हारा स्वाभिमान संस्था द्वारा सूर्य कवि पंडित लखमीचंद सांस्कृतिक भवन का शिलान्यास करने के उपरांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। यह संस्था द्वारा प्रदेश में पहला पंडित लखमीचंद सांस्कृतिक भवन है। शिक्षा मंत्री ने भवन के निर्माण के लिए 21 लाख रुपए देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यह घोषणा नहीं बल्कि भवन निर्माण के लिए संस्था के पास 21 लाख रुपए की राशि पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हमारी संस्कृति छिन्न-भिन्न होती जा रही है, जिसको बचाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि प्राचीन संस्कृति को बचाने के लिए ऐसे प्रयास होते रहने चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सभी मिलकर प्रयास करेंगे, तभी संस्कृति को विकृत होने से बचाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि पंडित लखमीचंद की रचनाएं हमेशा प्रासंगिक रहेंगी। उन्होंने आध्यात्मिक, धार्मिक और वर्तमान समय पर सटीक बैठने वाली रचनाएं रची। उन्होंने अपनी रचनाओं से समाज में व्याप्त बुराईयों पर प्रहार भी प्रहार किया। उनकी रचनाओं को झुठलाया नहीं जा सकता। शिक्षा मंत्री ने कहा कि लखमीचंद सरस्वती पुत्र थे। उनके कंठ में मां सरस्वती का साक्षात वास था। वे ज्ञान के अथाह सागर थे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विधायक घनश्याम दास सर्राफ ने गांव उमरावत सहित आसपास क्षेत्र में पेयजल संकट के समाधान करने सहित अनेक मांगे रखी। क्षेत्र की मांगें रखने के साथ-साथ विधायक सर्राफ ने पं. लखमीचदं भवन के लिए फिलहाल 1500 गज जमीन को को एक एकड़ में विस्तार कर मुहैया करवाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पं. लखमीचंद ने अपनी रचनाओं से समाज को सही रास्ता दिखाने का भी काम किया है। उन्होंने कहा कि वे हरियाणा की संस्कृति को बचाने के लिए हर संभव मदद करने को तैयार है।
कार्यक्रम के आयोजक संस्था के प्रधान डॉ. सुनील वत्स निठारी ने शिक्षा मंत्री व अन्य सभी मेहमानों का स्वागत व आभार प्रकट किया।
कार्यक्रम में लोक गायक राजेश थुराना, डॉ. मक्खन शर्मा, सतीश सुई, जनक बापोड़ा, सुमित सांकरोड़, विकास पाहसौर, पालेराम, रणबीर बड़वासनिया, संदीप भैंसवाल, सुरेंद्र गिगनाऊ, अमित समचाना, दीपक पाहसौर, नरेंद्र दांगी व अमित मलिक सहित अनेक कलाकारों ने पं. लखमीचंद की रचनाओं की प्रस्तुती दी। इस दौरान प्रसिद्ध लोक गायक पालेराम, रणबीर बड़वासनिया, श्याम लाल भैसरू , दयानंद कसार, सांगी विष्णुदत्त शर्मा व रामेश्वर बेरला सहित अनेक लोक गायको को संस्था द्वारा संस्कृति रत्न से सम्मानित किया गया।

इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here