केरल में सौ साल बाद बदतर हालात, बाढ़ का कहर

0
191
Thousands of years after Kerala, the floods of floods
Thousands of years after Kerala, the floods of floods

कोच्चि/अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़/एजेंसी: केरल में 10 दिनों से हो रही बारिश ने बाढ़ के हालात पैदा करते हुए 1924 की यादें ताजा कर दी है। केरल में 10 दिनों से प्रलय मचा रही बाढ़ से अबतक 357 लोगों की मौत हो चुकी है। बताया जा रहा है कि साल 1924 के बाद इस बार ऐसे हालात देखने को मिल रहे है।

केरल राज्य में सदी की सबसे खतरनाक बाढ़ ने कहर बरपाया हुआ है। आलम ये है कि अब तक इस बाढ़ से 357 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 19512 करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है। राज्य के 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी है। 3.53 लाख प्रभावित लोगों को 2000 से ज्यादा राहत शिविरों में भेजा गया है। शनिवार को केंद्र की तरफ से 500 करोड़ रुपए की तत्काल वित्तीय सहायता की घोषणा की गई। इससे पहले केंद्र द्वारा 100 करोड़ रुपए की घोषणा की गई थी।

दुख की इस घड़ी में हर तरफ से केरल की मदद के लिए हाथ बढ़ रहे हैं। हर राज्य ने अपने-अपने तरीके से मदद की है। पूरे देश से केरल में मदद पहुंचाने की कोशिश हो रही है।

Previous Most Popular News Storiesगंगा की गोद में समाए पूर्व प्राइम मिनिस्टर वाजपेयी, बेटी ने दी अंतिम विदाई
Next Most Popular News StoriesBest 10 Quotes Vichar In Hindi
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here