कर्नाटक ने मोदी सरकार से मांगा 3000 करोड़ का राहत पैकेज

0
21

New Delhi/Atulya Loktantra : बाढ़ से बेहाल कर्नाटक ने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है. कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने नरेंद्र मोदी सरकार से तीन हजार करोड़ के राहत पैकेज की मांग की है. इस सिलसिले में सीएम येदियुरप्पा 16 अगस्त को दिल्ली भी आ सकते हैं.

बाढ़ के हालात के साथ कैबिनेट विस्तार पर भी चर्चा की जा सकती है.कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने शनिवार को भी केंद्र सरकार से उत्तर-पश्चिम और तटीय क्षेत्रों में राज्य के 14 बाढ़ प्रभावित जिलों में राहत कार्यो के लिए 3,000 करोड़ रुपये की सहायता राशि की मांगी थी.

कर्नाटक एक अगस्त से ही भारी मॉनसूनी बारिश और तूफान का कहर झेल रहा है. कर्नाटक में बाढ़ की वजह से 1 अगस्त 2019 से अब तक 40 लोगों की मौत हो चुकी है,वहीं 14 लोग अभी भी लापता हैं. राज्य सरकार ने प्रभावित जिलों में बचाव और राहत कार्यो के लिए पिछले 2-3 दिनों में 100 करोड़ रुपये जारी किए थे. कर्नाटक में अभी तक 2,35,105 लोगों का रेस्क्यू किया गया है.

येदियुरप्पा ने शनिवार के दौरे में कहा था कि प्रभावित क्षेत्रों में 624 राहत शिविरों में शरण लेने वाले 1,57,498 लोगों को पीने का पानी, भोजन, दवाइयां, कपड़े, कंबल और अन्य सुविधाएं दी जा रही हैं और उनके क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत की जा रही है. प्रभावित जिलों में लगातार बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति गंभीर है. कर्नाटक में भीषण बारिश की वजह से सड़क, राजमार्ग, सरकारी इमारतें, बिजली के खंभे, ट्रांसफार्मर और अन्य बुनियादी सुविधाओं सहित सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा है. राज्य के 14 बाढ़ प्रभावित जिलों में बगलकोट, बेलागवी, बीजापुर (विजयपुरा), चिकमंगलूरु, दक्षिण कन्नड़, धारवाड़, गडग, हासन, हुबली, कोडागू, मैसूर, शिवमोगा, उडुपी और उत्तर कन्नड़ हैं.

Previous Most Popular News Storiesकट कर अलग हो गई यूपी BJP अध्यक्ष की उंगली
Next Most Popular News StoriesD S O I के बैनर तले “सावन की गूंज “कार्यक्रम का आयोजन
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here