जानिए, क्यों राफेल शस्त्र पूजा से कांग्रेस को लगी मिर्ची

0
8

New Delhi/Atulya Loktantra : भारत को उसका पहला फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल मिल गया है. राफेल के आने से पहले जितना राजनीतिक तूफान आया था, अब भारत को मिलने के बाद एक बार फिर विवादों ने जन्म दे दिया है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में शस्त्र पूजा करने के साथ ही राफेल विमान को रिसीव किया, इस दौरान राफेल पर नारियल चढ़ाया, ‘ऊँ’ का निशान बनाया और राफेल के पहियों के नीचे नींबू दिखाई दिए. अब कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने इस तरह की पूजा पर सवाल खड़े कर दिए हैं और सरकार पर निशाना साधा है.

राफेल की शस्त्र पूजा पर क्या बोले संदीप दीक्षित?

कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा राफेल विमान रिसीव करने पर ही सवाल कर दिया, उन्होंने कहा कि आखिर इसे रक्षा मंत्री ने क्यों रिसीव किया, ये काम वायुसेना ही कर सकती थी. उन्होंने कहा कि ये सिर्फ एक नया लड़ाकू विमान ही है जो हमें मिल रहा है.

राफेल विमान नींबू पर उन्होंने कहा कि विजयदशमी और राफेल विमान की जोड़ी मैच नहीं खाती है. संदीप दीक्षित बोले कि दशहरा एक त्योहार है, जिसे हम सभी मनाते हैं, लेकिन आप इसे आने वाले एयरक्राफ्ट से क्यों जोड़ रहे हैं. इस सरकार के साथ यही दिक्कत है कि काम करने के साथ नाटक ज्यादा किया जाता है.

ना सिर्फ कांग्रेस बल्कि राफेल की इस शस्त्र पूजा ने सोशल मीडिया पर भी एक नई बहस को जन्म दे दिया है. सोशल मीडिया पर लोग लिख रहे हैं कि ऐसा पहली बार ही हुआ है जब दुनिया ने ऐसा कुछ देखा हो, या फिर कुछ लोगों ने लिखा कि भारत ने आखिरकार राफेल को देसी बना दिया. इसके अलावा राफेल के नींबू-नारियल पर कई मीम भी बन रहे हैं.

.. जब राजनाथ ने की शस्त्र पूजा
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को फ्रांस में राफेल विमान उड़ाया और भारत के लिए इसे रिसीव भी किया. ऐसा पहली बार हुआ कि जब किसी बड़े लड़ाकू विमान की भारतीय खेमे में एंट्री इस तरह हुई, जब पूरी दुनिया भारत की शस्त्र पूजा को देख रही थी.

राजनाथ सिंह ने शस्त्र पूजा करते हुए पहले राफेल विमान पर ऊँ लिखा, पहिए के आगे नींबू रखा गया ताकि किसी की नज़र ना लगे. इसके अलावा राफेल पर मीठा रखा गया, नारियल फोड़ा गया. यानी शस्त्र पूजा के दौरान पूरे विधि-विधान का ध्यान रखा गया.

Previous Most Popular News Storiesललित की जीत के लिए मायावती ने उठाया ये राजनीतिक कदम
Next Most Popular News Storiesअमेरिका ने पकड़ी चीन की ‘कमजोर नब्ज’, भड़क गया बीजिंग
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here