जानिए किसे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा नकली प्रत्याशी

0
22

Faridabad/Atulya Loktantra : पृथला विधानसभा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रैली कर भाजपा से बागी प्रत्याशी नयनपाल रावत को नकली कहा है। मुख्यमंत्री के बयान के बाद पृथला विधानसभा में निर्दलीय उम्मीदवार नयनपाल रावत का ग्राफ गिरा है। भाजपा के कमल समर्थकों का नयनपाल के साथ जाना बयान के बाद वापसी हो गया है। इसका फायदा भाजपा को कम और कांग्रेस उम्मीदवार रघुवीर तेवतिया को ज्यादा हुआ है। इसका कारण यह है कि मुख्यमंत्री की रैली से पहले निर्दलीय उम्मीदवार नयनपाल रावत का ग्राफ सभी उम्मीदवारों के ऊपर था, दूसरे नंबर पर कांग्रेस के पूर्व विधायक एवं पृथला से उम्मीदवार रघुवीर तेवतिया माने जा रहे थे।

फरीदाबाद लोकसभा की हॉट सीट माने जाने वाली पृथला विधानसभा में राजनीति समीकरण हर हफ्ते बदल रहे है। माना यह भी जा रहा है कि सेक्टर- 61 में प्रधानमंत्री की रैली के बाद यहां के समीकरण कुछ और बन सकते है। उस स्थिति में नयनपाल रावत तीसरे पायदान पर पहुंच सकते है। पाठकों को बता दे कि नयनपाल रावत को पृथला विधानसभा क्षेत्र में धरती पकड़ नेता भी कह जाता है क्योंकि नयनपाल रावत ने सबसे पहला चुनाव पृथला विधानसभा से 2005 में बहुजन समाज पार्टी से लड़ा था जो बुरी तरह से हारे थे।

इस हार को जीतने में बदलने के लिए नयनपाल रावत ने बसपा को छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर ली थी।और फिर 2009 में भाजपा के निशान पर चुनाव लड़ा और रघुवीर तेवतिया से हार का मुँह देखन पड़ा। यह हार शायद नयनपाल रावत पचा नहीं पाए और जोर- शोर से भाजपा के लिए काम करने लगे तथा 2014 की मोदी लहर में टिकट लेने में पृथला से कामयाब हो गए और फिर से चुनावी मैदान में अड़े रहे।

इस समय उनका मुकाबला बहुजन समाज पार्टी से था लेकिन नतीजे फिर से नयनपाल को निराश कर गए। और बसपा के टेकचंद शर्मा ने बाजी मार ली। एक बार फिर चुनावी समर में नयनपाल रावत ने भाजपा से हुंकार भरने की जुगत लगाई लेकिन इसमें फेल हो गए।

टिकट इस बार भाजपा युवा मोर्चा के पदाधिकारी रहे कर्मठ उम्मीदवार सोहनपाल छोकर को मिली जिसके बाद से हलकान नयनपाल रावत ने अपने समर्थकों के साथ निर्दलीय उतरने का फैसला ले लिया। लेकिन इस सीट पर दो एक ही समाज के उम्मीदवारों के होने से कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार को भारी समर्थन मिलने के आसार बन रह है। लेकिन इस पूरे जातीय समीकरणों को देखते हुए नयनपाल रावत और भाजपा के सोहनपाल छोंकर, कांग्रेस प्रत्याशी से पीछे

Previous Most Popular News Storiesअब सम्पन्ति भी होंगी आधार कार्ड से लिंक
Next Most Popular News Storiesपंडित जी के कामों को याद कर नीरज को वोट का आश्वासन दे रहे हैं एनआईटी 86 के मतदाता
इस न्यूज़ पोर्टल अतुल्यलोकतंत्र न्यूज़ .कॉम का आरम्भ 2015 में हुआ था। इसके मुख्य संपादक पत्रकार दीपक शर्मा हैं ,उन्होंने अपने समाचार पत्र अतुल्यलोकतंत्र को भी 2016 फ़रवरी में आरम्भ किया था। भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस नाम को मान्यता जनवरी 2016 में ही मिल गई थी । आज के वक्त की आवाज सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए ही ऑनलाईन न्यूज़ वेब चैनल/पोर्टल को उन्होंने आरंभ किया। दीपक कुमार शर्मा की शैक्षणिक योग्यता B. A,(राजनीति शास्त्र),MBA (मार्किटिंग), एवं वे मानव अधिकार (Human Rights) से भी स्नातकोत्तर हैं। दीपक शर्मा लेखन के क्षेत्र में कई वर्षों से सक्रिय हैं। लेखन के साथ साथ वे समाजसेवा व राजनीति में भी सक्रिय रहे। मौजूदा समय में वे सिर्फ पत्रकारिता व समाजसेवी के तौर पर कार्य कर रहे हैं। अतुल्यलोकतंत्र मीडिया का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय सरोकारों से परिपूर्ण पत्रकारिता है व उस दिशा में यह मीडिया हाउस कार्य कर रहा है। वैसे भविष्य को लेकर अतुल्यलोकतंत्र की कई योजनाएं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here